Modi fans club faridabad

ICT Project एक contract system है जिसमे Computer teachers को contract पर प्राइवेट कम्पनीज के माध्य्म से लगाते है।इस project को पैसे खाने का धंदा बना रखा है education department ने।
हम 3000 computer teachers ने इसके against आवाज उठाई है हमे सबका साथ चाहिए all over india हमको C-Dac mohali जो सरकारी नियुक्त एजेंसी है ने entrance test लेकर DSE department की मेरिट लिस्ट के base पर appoint किया था August 2013 में और interview के time पर हमसे 24000 की security मांगी जो की अवैध है हमे ये बाद में पता चला RTI से फिर 2250 rs एक कंप्यूटर टीचर से ट्रेनिंग फीस ली वो भी अवैध थी वो भी RTI और govt के tender से clear हुआ।हमे ये भी पता चला की जो form 250 rs का निकलना था वो भी company ने 750 rs का निकाला था वहा से भी 500 rs per candidate अवैध वसूली हुयी।इन सब के बाद भी हमे 5 महीने तक सैलरी नही मिली तो हमने DSE department में strike की आमरण अनशन किया उन्हें सच बताया की private companies क्या कर रही है companies ने teachers को धमकाना और डरना शूरू कर दिया हमारे 11teachers की transfer 300 km दूर कर दी ताकि हम उनके अतयाचार के खिलाफ आवाज ना उठा सके और सैलरी भी नही दी तंग आके जून 2014 में कड़कती धूप और गर्मी में फिर से अतयाचार के खिलाफ आवाज उठाई 300 km वो teachers जो की MCA Mtech और phd की योग्यता रखते हे पैदल चले पैरो में छाले पड़ गए और pm नरेंदर मोदी जी को ज्ञापन दिया की वो हमे इंसाफ दिलाये पर उन्होंने भी नही सुनी तब 40 दिन तक strike की थी और बीजेपी के वो 4 नेता जंतर मंतर पर strike पर आये हमे भरोसा दिया की अगर हरियाणा में बीजेपी की सरकार बनेगी तो computer teachers को हम पक्का कर देंगे तब तत्कालीन मुख्यमंत्री श्री भूपेंदर सिंह हुडा ने हमे आस्वासन दिया की आपकी सैलरी RMSA से direct school head के दवारा मिलेगी और department की तरफ से 4 letter भी जारी किये companies ने DSE department पर केस कर दिया और CM ने भी हमारा साथ नही दिया।election में हमने बीजेपी को सपोर्ट किया बीजेपी की सरकार बन गयी हरियाणा में तब टीचर्स फिर एजुकेशन मिनिस्टर से आपने शोषण को खत्म करने की आस लेके गए क्योकि वो इलेक्शन से पहले वादा कर चुके थे की वो computer teachers को पहली कलम से पक्का करेंगे बाकि 3 लोग जो strike पर आये थे वो भी अब कैबिनेट मिनिस्टर्स है उनके पास भी गए उन्हें उनका वादा याद दिलाया वो बोले की हम आपका अच्छा करेंगे फिर भी कंपनी के साथ सांठ-गांठ करके वापिस उन्ही के हवाले हमारा भविष्य कर दिया।EM और DSE के director कोई बात नही सुनता सब बिक गए और नया टेन्डर लाने की बात कर रहे है ताकि फिर से पैसे खाते रहे private कंपनी के साथ मिलकर।हमारे पास प्रूफ है अपने साथ हुए अतयाचार और शोषण के सारे और हमने इस corruption के against आवाज़ उठाई है ताकि हम खुद इससे मुक्त हो पाये और आगे कोई इसका शिकार ना हो जेसे हमारा भविष्य पैसो के लिए बर्बाद कर रहे है वेसे किसी और का ना कर पाये इसलिए इस msz को जो भी पढ़े forward और share जरूर करे corruption के खिलाफ अपने हक़ की लड़ाई लड़ने में हमारा साथ दे क्योकि हमने देख लिया है की कोई govt साथ नही देती जनता को जाग्रत होंगे एक दूसरे की लड़ाई में एक दूसरे का साथ खुद ही देना पड़ेगा तभी न्याय होगा नही तो सब के साथ ऐसे ही शोषण होगा।हम हिंदुस्तानी ये सोच लेते है की ये हमारा मामला नही है तो हम क्यों सोचे इस चीज़ का फायदा सब उठाते है इसलिए corruption बढ़ रहा है अगर एक दूसरे की लड़ाई में साथ देंगे तो corruption खत्म होगा।इसलिए सब साथ दे इस msz को जयादा से जायदा शेयर करे।